सरकार की जन विरोधी किसान मजदूर एवं राष्ट्र विरोधी नीतियों के खिलाफ तहसील मुख्यालय शहीद स्मारक स्थल बीकापुर में धरना – बहुजन इंडिया 24 न्यूज

सरकार की जन विरोधी किसान मजदूर एवं राष्ट्र विरोधी नीतियों के खिलाफ तहसील मुख्यालय शहीद स्मारक स्थल बीकापुर में धरना

1 min read
😊 Please Share This News 😊

संवाददाता :अयोध्या -फूलचन्द्र

सरकार की जन विरोधी किसान मजदूर एवं राष्ट्र विरोधी नीतियों के खिलाफ श्रमिक संगठनों औद्योगिक सेवा प्रतिष्ठानों तथा सरकारी कर्मचारियों द्वारा देशव्यापी हड़ताल के समर्थन में संयुक्त किसान मोर्चा जिला कमेटी अयोध्या द्वारा तहसील मुख्यालय शहीद स्मारक स्थल बीकापुर में धरना के माध्यम से समस्याओं के समाधान के लिए महामहिम राष्ट्रपति महोदय भारत सरकार नई दिल्ली को संबोधित 13 सूत्रीय मांगपत्र उप जिलाधिकारी महोदय को दिया गया ।
बीकापुर अयोध्या दिनांक 29 मार्च 2022

मांग पत्र में फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य लागू करने स्वामीनाथन कृषि आयोग के अनुरूप तय कर उसे दिलवाने की कानूनी गारंटी कराई जाने संयुक्त किसान मोर्चा के आंदोलन के स्थगन के समय 9 दिसंबर 2021 को केंद्र सरकार द्वारा किए गए लिखित वादों को पूरा कराने एवं शहीद किसानों के आश्रितों को उचित मुआवजा दिलाने व झूठे केस वापस किए जाने लखीमपुर खीरी किसान हत्याकांड के साजिशकर्ता केंद्रीय गृह राज्य मंत्री और उसके हत्यारे बेटे व अन्य दोषियों को सजा दिलाने। 4 श्रम कानून एवं आवश्यक सेवा सुरक्षा कानून को रद्द किए जाने बिजली का निजीकरण दिल 2021 वापस किए जाने महंगाई पर रोक लगाने डीजल पेट्रोल रसोई गैस के दाम वापस किए जाने रेलवे बैंक बीमा रक्षा क्षेत्र आदि स्थानों का निजीकरण बंद करने एवं इन्हें बेचना बंद करने मनरेगा का बजट बढ़ाने साल में 200 दिन का काम व 600 मजदूरी करने असंगठित क्षेत्र के न्यूनतम वेतन ₹21000 प्रतिमाह किए जाने आशा आंगनबाड़ी रसोइयों को सरकारी कर्मी का दर्जा एवं सामाजिक सुरक्षा कराए जाने आवारा पशुओं से फसल बचाने तथा बर्बाद फसलों का मुआवजा संविधान जनतंत्र और मानव अधिकारों पर हमला बन्द करने तानाशाही पर रोक लगाने संप्रदायिक व जातिवाद के आधार पर समाज को बांटना बंद किए जाने जैसे मांग पत्र शामिल है। धरने की अध्यक्षता जिला संयोजक मायाराम वर्मा तथा संचालन अवध राम यादव ने किया। धरने पर अशोक यादव बाबूराम यादव कमला प्रसाद बागी घनश्याम विश्राम मोहम्मद इशहाक अरविंद कुमार वर्मा राम तिलक वर्मा राम तेज वर्मा कर करुणाकर यादव अवधेश निषाद इन्द्र भानपांडे भागीरथ वर्मा रामकरन प्रजापत अनिल सोनी जगदीश वर्मा चुन्नी लाल आदि शामिल रहे।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!