बाबासाहेब के परिनिर्वाण के 34 वर्ष बाद 31 मार्च 1990 को मरणोपरांत भारत रत्न दिया गया था – बहुजन इंडिया 24 न्यूज

बाबासाहेब के परिनिर्वाण के 34 वर्ष बाद 31 मार्च 1990 को मरणोपरांत भारत रत्न दिया गया था

1 min read

बाबासाहेब के परिनिर्वाण के 34 वर्ष बाद 31 मार्च 1990 को मरणोपरांत भारत रत्न दिया गया था

😊 Please Share This News 😊

बाबासाहेब के परिनिर्वाण के 34 वर्ष बाद 31 मार्च 1990 को मरणोपरांत भारत रत्न दिया गया था

बाबा साहेब को किसने व कितने वर्ष बाद और कब दिया था भारत रत्न संविधान निर्माता बाबा साहेब आंबेडकर को मरणोपरांत भारत रत्न बी पी सिंह द्वारा बाबासाहेब के परिनिर्वाण के 34 वर्ष बाद 31 मार्च 1990 को मरणोपरांत भारत रत्न दिया गया था। बाबासाहेब का परिनिर्माण 6 दिसंबर 1956 को दिल्ली में हो गया था। 34 वर्ष बाद बाबा साहब को मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया था।बाबा साहब डॉ भीमराव अंबेडकर मरणोपरांत सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित करके देश और समाज के प्रति उनके अमूल्य योगदान को नमन किया गया था। बाबा साहब ने भारत की आजादी की लड़ाई मैं सक्रिय रूप से हिस्सा लिया था। और जीवन भर सामाजिक भेदभाव के खिलाफ लड़ते रहे। भीमराव की भूमिका और भी महत्वपूर्ण हो गई जब उन्हें राष्ट्र के संविधान निर्माण का दायित्व सौंपा गया था।

बहुजन इंडिया 24 न्यूज़ व बहुजन प्रेरणा दैनिक समाचार पत्र (सम्पादक मुकेश भारती ) मो ० 9336114041 )– ( विजय कुमार – ब्यूरो रिपोर्ट )- दिनांक 31 मार्च 2022-गुरुवार ।

बाबा साहेब को किसने व कितने वर्ष बाद और कब दिया था भारत रत्न संविधान निर्माता बाबा साहेब आंबेडकर को मरणोपरांत भारत रत्न बी पी सिंह द्वारा बाबासाहेब के परिनिर्वाण के 34 वर्ष बाद 31 मार्च 1990 को मरणोपरांत भारत रत्न दिया गया था। बाबासाहेब का परिनिर्माण 6 दिसंबर 1956 को दिल्ली में हो गया था। 34 वर्ष बाद बाबा साहब को मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया था।बाबा साहब डॉ भीमराव अंबेडकर मरणोपरांत सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित करके देश और समाज के प्रति उनके अमूल्य योगदान को नमन किया गया था। बाबा साहब ने भारत की आजादी की लड़ाई मैं सक्रिय रूप से हिस्सा लिया था। और जीवन भर सामाजिक भेदभाव के खिलाफ लड़ते रहे। भीमराव की भूमिका और भी महत्वपूर्ण हो गई जब उन्हें राष्ट्र के संविधान निर्माण का दायित्व सौंपा गया था।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!