लखीमपुर खीरी निघासन ब्लॉक में प्राइवेट मुंसियो की हुई फौज,अधिकारी सब काट रहे मौज – बहुजन इंडिया 24 न्यूज

लखीमपुर खीरी निघासन ब्लॉक में प्राइवेट मुंसियो की हुई फौज,अधिकारी सब काट रहे मौज

1 min read

लखीमपुर खीरी निघासन ब्लॉक में प्राइवेट मुंसियो की हुई फौज,अधिकारी सब काट रहे मौज

😊 Please Share This News 😊

लखीमपुर खीरी निघासन ब्लॉक में प्राइवेट मुंसियो की हुई फौज,अधिकारी सब काट रहे मौज

लखीमपुर खीरी निघासन ब्लॉक निघासन में मुंसियो की हुई फौज,अधिकारी काट रहे मौज।अगर आप निघासन ब्लॉक जाते हैं तो याद रहे ब्लॉक में अधिकारी नही मुंसी जी मिलेंगे,अगर कोई कागज बनवाना है तो मुंसी जी से मिलिए अगर साइन करवाना है तो मुंसी जी से मिलिए कभी कभार अगर अधिकारी साहब मिल भी गए तो आप से यही कहेंगे कि,,जाओ मुंसी जी से मिल लो काम हो जाएगा,,यही नही ब्लॉक के अधिकारियों के सारे कागजी कार्य इनके प्राइवेट मुंसी ही करते हैं।अधिकारी साहब तो मौज फरमाते है।निघासन ब्लॉक में एक एक अधिकरी के पास चार ,चार,पांच ,पांच मुंसी लगे हुए,इन मुंसियो के कारनामे क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है।

बहुजन इंडिया 24 न्यूज़ व बहुजन प्रेरणा दैनिक समाचार पत्र (सम्पादक मुकेश भारती ) मो ० 9336114041)लखीमपुर खीरी : ( अमरेन्द्र सिंह- – ब्यूरो रिपोर्ट )- दिनांक19 अप्रैल 2022-मंगलवार ।

लखीमपुर खीरी निघासन ब्लॉक निघासन में मुंसियो की हुई फौज,अधिकारी काट रहे मौज।अगर आप निघासन ब्लॉक जाते हैं तो याद रहे ब्लॉक में अधिकारी नही मुंसी जी मिलेंगे,अगर कोई कागज बनवाना है तो मुंसी जी से मिलिए अगर साइन करवाना है तो मुंसी जी से मिलिए कभी कभार अगर अधिकारी साहब मिल भी गए तो आप से यही कहेंगे कि,,जाओ मुंसी जी से मिल लो काम हो जाएगा,,यही नही ब्लॉक के अधिकारियों के सारे कागजी कार्य इनके प्राइवेट मुंसी ही करते हैं।अधिकारी साहब तो मौज फरमाते है।निघासन ब्लॉक में एक एक अधिकरी के पास चार ,चार,पांच ,पांच मुंसी लगे हुए,इन मुंसियो के कारनामे क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। आखिरकार एक अधिकारी के पास अगर चार मुंसी है तो उनको कौन देता होगा हर माह वेतन/मानदेय अधिकारी या सरकार,सोचने वाली बात है ,अगर अधिकार देते हैं तो वो कहाँ से देते हैं अगर अधिकारी नही देते हैं तो मुंसी जी कहाँ से अपना खर्च व घर चलाते हैं,यही नही ब्लॉक के हर अधिकारी के सरकारी दस्तावेज प्राइवेट मुंसियो के पास मिलते हैं, इससे तो साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि सरकारी गोपनीय सूचनाएं इन प्राइवेट मुंसियो को सबसे पहले मिलती है, जिससे ये अधिकारियों के मुंसी भोली भाली जनता के साथ खिलवाड़ करते रहते हैं।सूत्रों से मिली जानकारी से आपको बतादे की ब्लॉक् में हर सप्ताह अधिकारी कम मुंसी ही मिलते है कार्यालयों में,इस संबंध में जब निघासन खंड विकास अधिकारी से उनके फोन पर संपर्क कर जानकारी लेन चाहा तो किसी कारण वश सम्पर्क नही हो पाया।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!