आष्टा के ग्राम बमुलिया खींची मे पीने के पानी लिए मची अफरा तफरी – बहुजन इंडिया 24 न्यूज

आष्टा के ग्राम बमुलिया खींची मे पीने के पानी लिए मची अफरा तफरी

1 min read

आष्टा के ग्राम बमुलिया खींची मे पीने के पानी लिए मची अफरा तफरी

😊 Please Share This News 😊

संवाददाता : सीहोर  : कुमेर सिंह आंवले :आष्टा के ग्राम बमुलिया खींची मे पीने के पानी लिए मची अफरा तफरी

आष्टा के ग्राम बमुलिया खींची मे पीने के पानी लिए मची अफरा तफरी 26/04/2022 सीहोर जिले के आष्टा तहसील ग्राम पंचायत बमुलिया खींची मैं पीने के पानी के लिए मची अफरा-तफरी गांव के लोग 2,2 किलोमीटर दूर से खेत में होते हुए पीने का पानी लाते है ग्राम बामुलिया में सरकारी ना तो हैंडसम है और ना ही बोर लगा हुआ है गांव के नागरिक जब पंचायत में जाकर प्रधान जी और मंत्री जी से बात करते हैं पानी के लिए तो झूठा आश्वासन देकर उन्हें टाल दिया जाता है बोलते हैं कि कहीं से दूसरी जगह से भर के लाओ अभी हम बोर, हैंड पंप नहीं लगाएंगे जिसके कारण नागरिक दूर-दूर से पानी लाने को मजबूर हैं गांव वाले का कहना है कि

अगर हम कुछ गांव का विकास के लिए पानी की समस्या के लिए हम उनसे बात करते हैं तो हमको किसी बात को लेकर जैसे की कुटी आवास योजना से नाम काटने की धमकी देकर डरा देते हैं आजादी के 70 साल बीतने के बाद भी ग्राम पंचायत बामुलिया खींची आज भी पीछे चल रहा है।

बहुजन इंडिया 24 न्यूज़ व बहुजन प्रेरणा दैनिक समाचार पत्र (सम्पादक मुकेश भारती ) मो ० 9336114041)

आष्टा के ग्राम बमुलिया खींची मे पीने के पानी लिए मची अफरा तफरी 26/04/2022 सीहोर जिले के आष्टा तहसील ग्राम पंचायत बमुलिया खींची मैं पीने के पानी के लिए मची अफरा-तफरी गांव के लोग 2,2 किलोमीटर दूर से खेत में होते हुए पीने का पानी लाते है ग्राम बामुलिया में सरकारी ना तो हैंडसम है और ना ही बोर लगा हुआ है गांव के नागरिक जब पंचायत में जाकर प्रधान जी और मंत्री जी से बात करते हैं पानी के लिए तो झूठा आश्वासन देकर उन्हें टाल दिया जाता है बोलते हैं कि कहीं से दूसरी जगह से भर के लाओ अभी हम बोर, हैंड पंप नहीं लगाएंगे जिसके कारण नागरिक दूर-दूर से पानी लाने को मजबूर हैं गांव वाले का कहना है कि अगर हम कुछ गांव का विकास के लिए पानी की समस्या के लिए हम उनसे बात करते हैं तो हमको किसी बात को लेकर जैसे की कुटी आवास योजना से नाम काटने की धमकी देकर डरा देते हैं आजादी के 70 साल बीतने के बाद भी ग्राम पंचायत बामुलिया खींची आज भी पीछे चल रहा है।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!