बलरामपुर : मेमोरियल चिकत्सालय को सात साल बाद मिला ईएनटी सर्जन, मरीजों को मिलेगी राहत – बहुजन इंडिया 24 न्यूज

बलरामपुर : मेमोरियल चिकत्सालय को सात साल बाद मिला ईएनटी सर्जन, मरीजों को मिलेगी राहत

1 min read
😊 Please Share This News 😊

बहुजन इंडिया 24 न्यूज़ व बहुजन प्रेरणा दैनिक हिंदी समाचार पत्र ( सम्पादक मुकेश भारती ) 9161507983

बलरामपुर : ( बी०पी० बौद्ध – ब्यूरो रिपोर्ट )


बलरामपुर : मेमोरियल चिकत्सालय को सात साल बाद मिला ईएनटी सर्जन, मरीजों को मिलेगी राहत

जिला मेमोरियल चिकत्सालय को सात साल बाद मिला ईएनटी सर्जन, मरीजों को मिलेगी राहत बलरामपुर। जनपद में नाक, कान व गले की परेशानियों से जूझ रहे मरीजों के लिए राहत भरी खबर है। सात साल बाद जिले में ईएनटी सर्जन डॉ० के०एन० आनन्द की तैनाती हुई है। अब तक इस रोग से सम्बन्धित कोई विशेषज्ञ न होने से लोग निजी चिकित्सकों से ही इलाज कराने को विवश थे। इससे गरीब मरीजों को इलाज कराने में अधिक रुपये खर्च करना पड़ता था। लेकिन अब जिला मेमोरियल चिकत्सालय में नाक, कान, एवं गला रोग विशेषज्ञ की तैनाती होने के बाद मरीजों की मुसकिलें दूर हो जाएंगी। यही नहीं, इनके अलावा जिले में हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ० उमेश कुशवाहा व डॉ० राकेश पाण्डेय की तैनाती हुई है। डॉ० उमेश कुशवाहा जिला मेमोरियल चिकित्सालय व डॉ० राकेश पाण्डेय संयुक्त जिला चिकित्सालय में तैनात किए गए हैं। इससे मरीजों के हड्डियों का दर्द भी कम होने की उम्मीद जगी है। स्पेशलिस्ट कर रहे इमरजेंसी ड्यूटी संयुक्त जिला चिकित्सालय में मात्र एक ईएमओ डॉ० पंकज बचे हैं। ऐसे में विभिन्न रोगों के विशेषज्ञों को इमरजेंसी ड्यूटी करनी पड़ रही है। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ० नानक सरन ने बताया कि उनके यहाँ तीन ईएमओ के पद खाली हैं। इससे इमरजेंसी सेवाएं प्रभावित हो रही हैं। इनके अलावा फिजीशियन, एनथेटिस्ट, डेन्टल, एवं ईएनटी सर्जन के पद रिक्त हैं। महिला रोग विशेषज्ञ भी नहीं है। संविदा महिला डॉक्टर शक्ति किसी तरह महिलाओं का इलाज कर रहा है। सीएमएस डॉ० नानक सरन व जिला मेमोरियल चिकित्सालय के सीएमएस डॉ० ए०के० श्रीवास्तव शासन को पत्र लिख चुके हैं, कि डॉक्टरों व स्टाफ नर्सों अन्य स्वास्थ्य कर्मियों की कमी के चलते स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित हो रही हैं। अभी तक तीन डॉक्टरों की तैनाती की गई हैं। बढ़ जाती संविदा तो, नहीं खराब होती व्यवस्था जून के अन्त में संविदा स्टाफ नर्स, फार्मासिस्ट समेत अन्य स्वास्थ्य कर्मियों की सेवाएं समाप्त हो गई। इससे व्यवस्था और प्रभावित हो गई है। उम्मीद थी कि कोरोना महामारी के दौरान भर्ती हुए इन संविदा कर्मियों की सेवाएं एक बार फिर बढ़ जाएंगी। इसके लिए सभी संविदा कर्मी डीएम, सीएमओ से कई बार गुहार लगा चुकें हैं। लेकिन वह भी नहीं हो पाया है।


खबर संकलन– बी०पी० बौद्ध
जिला ब्यूरो चीफ
बलरामपुर

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!