मैनपुरी: : लाइब्रेली का ताला खुला हुआ था कवियों द्वारा लिखी गई पुस्तक – बहुजन इंडिया 24 न्यूज

मैनपुरी: : लाइब्रेली का ताला खुला हुआ था कवियों द्वारा लिखी गई पुस्तक

1 min read
😊 Please Share This News 😊

बहुजन इंडिया 24 न्यूज़ व बहुजन प्रेरणा दैनिक हिंदी समाचार पत्र ( सम्पादक मुकेश भारती ) 9161507983
मैनपुरी :: (सुजाउददीन – ब्यूरो रिपोर्ट )


मैनपुरी: : लाइब्रेली का ताला खुला हुआ था कवियों द्वारा लिखी गई पुस्तक

पुस्तकालय में रखी साहितयकारो की पुस्तकें गिलहरियों ने नोच कर खा गई नगर पंचायत कुसमरा में महाकवि देव स्मारक में देव कवियों द्वारा लिखित पुस्तकों को लाइब्रेली में रखा गया था लाइब्रेली का ताला खुला हुआ था कवियों द्वारा लिखी गई पुस्तकों को बकरियाँ नोंच रही थी महाकवि देव स्मारक के सदस्य रूपलाल शाक्य ने देव स्मारक में जाकर देखा तो चारों तरफ गंदगी पड़ी हुई थी महाकवि देव जी की फोटो मिट्टी में दबी हुई थी देव स्मारक में फैली गंदगी को उन्होंने उच्चधिकारियों को सूचना दी महाकवि देव स्मारक के सदस्य रूपलाल शाक्य बुधवार दोपहर जब देव पहुँचें तो वहाँ का ताला खुला हुआ था कवियों द्वारा लिखी गयी पुस्तकों को बकरियाँ नोच रही थी। महाकवि देव स्मारक की देख रेख नगर पंचायत के अधिशासी अधिकारी का दायित्व होता है जिसके वाद भी लाइब्रेली कमरे में किसी के द्वारा खाना बनाया गया। कमरे में ईंटों का चूल्हा बनाकर खाना बनाकर ईंटों वहीं छोड़ दी गयी। देव स्मारक को ऐसी बदहाल दशा को देखते हुए उन्हों ने उच्च अधिकारियों को सूचना दी साहित्यकारों की पुस्तकें लिखी हुई मिलीं फटी रूपलाल शाक्य जब बुधवार को महाकवि देव स्मारक पहुंचे तो वहीं लाइब्रेली में कवियों द्वारा लिखी गयी पुस्तकें फैली हुई थी। चारों तरफ गंदगी नजर आ रही थी देव स्मारक 1953 में बनाया गया था जो कुसमरा देव भूमि के नाम से जाना जाता है सभी साहित्यकारों को पुस्तकें नोच कर बकरियाँ खा गयी ।कवियों द्वारा लिखी गयी पुस्तकों का वर्चस्व गायव होता जा रहा है।


मैनपुरी :: (सुजाउददीन – ब्यूरो रिपोर्ट )

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!