बीमा कम्पनी को चूना लगाने पर जुटे वाहन मालिक व उनके सलाहकार विवेचक से मिलकर बदलवा दिया ड्राइवर व ट्रैक्टर – बहुजन इंडिया 24 न्यूज

बीमा कम्पनी को चूना लगाने पर जुटे वाहन मालिक व उनके सलाहकार विवेचक से मिलकर बदलवा दिया ड्राइवर व ट्रैक्टर

1 min read
😊 Please Share This News 😊

बहुजन इंडिया 24 न्यूज़ व बहुजन प्रेरणा दैनिक समाचार पत्र ( सम्पादक मुकेश भारती ) 9161507983
जौनपुर : संतोष कुमार : (ब्यूरो रिपोर्ट )


बीमा कम्पनी को चूना लगाने पर जुटे वाहन मालिक व उनके सलाहकार विवेचक से मिलकर बदलवा दिया ड्राइवर व ट्रैक्टर
करोडो का चूना बीमा कम्पनी को लगना तय पुलिस की विवेचना पर उठी उगली
सही वाहन मालिक पर पुलिसकर्मियों पर जानलेवा हमले का है आरोप मिक्चर मशीन चलाने का फर्म भी नही कराया है रजिस्ट्रेशन।सरकार को लगा रहा है लाखो का चूना जौनपुर। यह अजीबो गरीब मामले जमदहा गांव मे दिनाक 06 मार्च 2022 को हुए एक्सीडेंट से सम्बन्धित है जिसमे बगैर प्लेट की आयशर ट्रैक्टर व मिक्सर मशीन पलटने से दब कर 4 लोगो की जान चली गयी थी। एक मृतक के पिता फूलचन्द्र प्रजापति निवासी मानी खुर्द ने अज्ञात चालक के विरूद्ध मुकदमा खेतासराय थाने मे मुकदमा अपराध संख्या 39/2022 लिखाया तथा जब ट्रैक्टर के चेचिस नम्बर व इंजन नम्बर ट्रेस करके आर टी ओ मे पता किया गया तो उस ट्रैक्टर का नम्बर UP62 AE 9058 निकला और वाहन मालिक राम औतार बिंद पुत्र स्व लालबिहारी बिन्द निवासी मौजा अब्बोपुर जमदहा जौनपुर निकला और चालक कोमल बिंद पुत्र राम शवारथ बिंद निवासी ग्राम अब्बोपुर पता चला। जिसका अभी ड्राइविंग लाइसेंस नही बना था। चार लोगो के मरने पर करोडो के क्लेम पास होने की सम्भावना पर मालिक व विवेचक ने जमकर खेल किया और क्लेम से बचने के लिए ट्रैक्टर मालिक ने अपने एक रिस्तेदार डबलू पुत्र विलास निवासी ग्राम कौडिया थाना सरायमीर जिला आजमगढ को विवेचक से मिल कर वाहन चालक बदलवा दिया और ट्रैक्टर भी UP62 AE 9058 की जगह UP62 BX 4286 बदलवा दिया। इसकी सूचना मिलते ही एक मृतक की पत्नी शशिकला बिंद ने न्यायालय में 156 (3) के अन्तर्गत दिनाक 05 अप्रैल को सही मुल्जिम व ट्रैक्टर के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के लिए दरख्वास्त दिया है। इधर न्यायालय मे फर्जी मुल्जिम डब्लू ने आत्मसमर्पण की दरख्वास्त दिया तो मजेदार बात यह है कि विवेचक ने ड्बलू को ही मुल्जिम बनाते हुए रिपोर्ट अदालत में दे दिया है। आज कंडोलेंस हो जाने कारण आज तो फर्जी मुल्जिम की जमानत याचिका पर सुनवाई नही हो सकी लेकिन दीवानी जौनपुर के अधिवक्ताओं ने उक्त सफेदपोश माफियाओं व पुलिस गठजोड़ के पर्दाफाश करने का मन बनाया है। इन्ही लोगो की वजह से जनता का न्याय व्यवस्था से विश्वास उठ रहा है बीमा कम्पनियों के अधिवक्ताओं व अधिकारियों व सर्वेयरों की मिलीभगत से कम्पनी को सही घटना पता नहीं चलता और बीमा कम्पनियों को करोडो का नुकसान हो जाता। कहा तो यहा तक जाता है कि बीमा कम्पनी के अधिकारी व उनकेपैरोकार भी इस मिली भगत मे सम्मलित रहते है। वैसे यदि इस मुकदमे की जाच पुलिस विभाग के शीर्ष इमानदार अधिकारी करे तो कई लोग जेल मे होगे। इसी प्रकार के फर्जी वाडे के आरोप मे जिला शाहजहांपुर के करीब आधा दर्जन वकीलों के लाइसेंस को बार कौंसिल आफ इंडिया ने रद्द कर दिया था।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]

You may have missed

error: Content is protected !!