बलरामपुर :: मरीजों के साथ संवेदनहीनता है आम, लूट-खसोट पर नहीं लग पा रहा लगाम – बहुजन इंडिया 24 न्यूज

बलरामपुर :: मरीजों के साथ संवेदनहीनता है आम, लूट-खसोट पर नहीं लग पा रहा लगाम

1 min read
😊 Please Share This News 😊

 बहुजन इंडिया 24 न्यूज व बहुजन प्रेरणा दैनिक हिंदी समाचार पत्र ( सम्पादक मुकेश भारती ) 9161507983

बलरामपुर : * ( बी०पी० बौद्ध – ब्यूरो रिपोर्ट)


बलरामपुर :: मरीजों के साथ संवेदनहीनता है आम, लूट-खसोट पर नहीं लग पा रहा लगाम

मरीजों के साथ संवेदनहीनता है आम, लूट-खसोट पर नहीं लग पा रहा लगाम जिस लिपिक कज नाम पर हो रहा है खेल, वह भर रही फार्मजनपद के जिला महिला चिकित्सालय में चतुर्थ श्रेणी कर्मी परवेज अहमद के वित्तीय व प्रशासनिक कार्य निपटाने की शिकायत के बाद अस्पताल में वर्षों से चल रहा भ्रस्टाचार धीरे-धीरे सामने आ रहा है। चतुर्थ श्रेणी कर्मी जिस कनिष्ठ सहायक अनामिका त्रिपाठी के नाम से वर्षों से खेल करता चला आ रहा है, वह लिपिक भी इससे बिल्कुल अनजान है। वही, किस मद में कितना बजट है, कितना खर्च हुआ है, ऐसी कोई भी जानकारी अनामिका को नाममात्र भी नहीं है। यहां तक कि बजट व कार्य के विवरण की फाइल तक नहीं मालूम है। अस्पताल के बाहर बरामदे से अलग कक्ष में अनामिका को जननी सुरक्षा योजना का फार्म भरने का दायित्व सौंपा गया है, जबकि वित्तीय व प्रशासनिक कार्य सीएमएस आवास से सटे कक्ष में निपटाया जाता है। सूत्रों की माने तो, यदि सही तरीके से जाँच हुई तो अनामिका किसी भी मद व उपयोग की जानकारी नहीं दे पाएंगी। हालांकि कमिश्नर की नाराजगी शुरू एडी द्वारा माँगा गया जवाब अस्पताल को कितना सुधार पाएगा, यह तो वक्त बताएगा। पहले भी सवालों में रहीं अस्पताल की कार्यशैली महिला जिला चिकित्सालय में भ्रष्टाचार इसलिए भी बढ़ता रहा क्योंकि कभी शिकायतकर्ता पर दबाव बनाकर, तो कभी जाँच अधिकारी को ही मैनज कर मामला रफादफा कर दिया गया। मामला मरीजों से वसूली का हो, या फिर बच्चे की मौत के बाद अभिभावकों के हंगामे का। अफसरों की तेजी केवल डांट फटकार तक ही सीमित रही। दोषी होने के बाद भी कार्यवाही में जिम्मेदारों के हाथ काँपते रहे। यही कारण है कि महिला अस्पताल में न तो भ्रस्टाचार थम रहा है और न ही वसूली। सदर ब्लॉक की पियरा गाँव निवासिनी गर्भवती नेहा सिंह की पाँच दिन पहले तबियत बिगड़ गई।.भर्ती कराने के लिए परिवारजन रात में सीएमएस का दरवाजा खटखटाते रहे, लेकिन वह नहीं निकलीं। सीएमएस डॉ० विनीता राय का कहना है कि वित्तीय व प्रशासनिक कार्य अनामिका त्रिपाठी देख रही हैं। जवाब दिया जा रहा है। सुधार के लिए सभी को चेतावनी दी गई है। जो भी दोषी होगा, उसे बख्शा नहीं जाएगा।


खबर संकलन– बी०पी० बौद्ध
जिला ब्यूरो चीफ
बलरामपुर

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]

You may have missed

error: Content is protected !!