जिलाधिकारी ने जिला शिक्षा अनुश्रवण समिति, जिला स्तरीय टास्क फोर्स की समीक्षा बैठक की – बहुजन इंडिया 24 न्यूज

जिलाधिकारी ने जिला शिक्षा अनुश्रवण समिति, जिला स्तरीय टास्क फोर्स की समीक्षा बैठक की

1 min read
😊 Please Share This News 😊

संवाददाता : : मैनपुरी   ::   अवनीश कुमार :: Date :: 21 .10 .2022 :: जिलाधिकारी ने जिला शिक्षा अनुश्रवण समिति, जिला स्तरीय टास्क फोर्स की समीक्षा बैठक की

जिलाधिकारी ने जिला शिक्षा अनुश्रवण समिति, जिला स्तरीय टास्क फोर्स की समीक्षा बैठक की जनपद में संचालित कस्तूरबा गांधी विद्यालय में शिक्षा ग्रहण कर रही छात्राओं की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा जाए:– जिलाधिकारी मैनपुरी 20 अक्टूबर, 2022- जिलाधिकारी अविनाश कृष्ण सिंह ने जिला शिक्षा अनुश्रवण समिति, निपुण भारत, जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक की समीक्षा के दौरान कहा कि सभी अध्यापकों के मोबाइल पर निपुण ऐप डाउनलोड हो, सभी शिक्षक निपुण ऐप का प्रयोग करें। इसका प्रयोग करने से पढ़ाने की तकनीक में बदलाव होगा।

बहुजन प्रेरणा दैनिक समाचार पत्र व बहुजन इंडिया 24 न्यूज़ (सम्पादक- मुकेश भारती ) किसी भी शिकायत के लिए सम्पर्क करे – 9336114041

जिलाधिकारी ने जिला शिक्षा अनुश्रवण समिति, जिला स्तरीय टास्क फोर्स की समीक्षा बैठक की जनपद में संचालित कस्तूरबा गांधी विद्यालय में शिक्षा ग्रहण कर रही छात्राओं की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा जाए:– जिलाधिकारी मैनपुरी 20 अक्टूबर, 2022- जिलाधिकारी अविनाश कृष्ण सिंह ने जिला शिक्षा अनुश्रवण समिति, निपुण भारत, जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक की समीक्षा के दौरान कहा कि सभी अध्यापकों के मोबाइल पर निपुण ऐप डाउनलोड हो, सभी शिक्षक निपुण ऐप का प्रयोग करें। इसका प्रयोग करने से पढ़ाने की तकनीक में बदलाव होगा। प्रथम चरण में प्रत्येक ग्राम पंचायत में जिन 02-02 विद्यालयों का चयन किया गया है। वह सभी विद्यालय 31 दिसंबर तक निपुण विद्यालय घोषित हो। उन विद्यालयों में प्रत्येक पंजीकृत बच्चे को गणित, हिंदी की जानकारी हो। उन्होने समीक्षा के दौरान पाया कि निपुण भारत योजना के तहत आंगनवाड़ी केंद्रों में पंजीकृत 03 से 06 आयु वर्ग के बच्चों को अक्षर ज्ञान हेतु 31 अगस्त से बाल वाटिका संचालित होने थी, लेकिन अभी तक अधिकांश आंगनवाड़ी केंद्रों में बाल वाटिका संचालित नहीं है। इस संबंध में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला कायर्क्रम अधिकारी द्वारा न तो कोई कार्य किया गया है और नाहीं दोनों विभागों के अधिकारियों में योजना के क्रियान्वयन को लेकर सामजंस्य नहीं है, जो खेदजनक है। उन्होंने योजना के प्रभावी क्रियान्वयन में लापरवाही बरतने पर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला कायर्क्रम अधिकारी को चेतावनी जारी करते हुए आगामी 01 सप्ताह में सभी आंगनवाड़ी केंद्रों में बाल वाटिका संचालित कराए जाने के निर्देश दिए साथ ही उन्होंने जिला बेसिक शिक्षाधिकारी को निदेर्शित करते हुए कहा कि खंड शिक्षा अधिकारियों, जिला समन्वयक आदि के साथ विभागीय कार्यो के साथ-साथ शैक्षिक कार्यो की नियमित समीक्षा करें। प्राथमिक विद्यालय में शैक्षिक वातावरण सुधरे, विद्यालयों में मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध रहें। शिक्षक समय से उपस्थित हों ताकि आमजन के बीच बेसिक शिक्षा के विद्यालयों की धारणा बदल सके। जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद में संचालित कस्तूरबा गांधी विद्यालय में शिक्षा ग्रहण कर रही छात्राओं की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा जाए। उनके स्वास्थ्य की नियमित जांच हो, छात्रावास परिसर में कोई भी पुरुष-बालक प्रवेश न करें। नामित नोडल अधिकारी प्रतिमाह कस्तूरबा गांधी विद्यालय का स्थलीय निरीक्षण कर सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराएं। उन्होंने प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षा ग्रहण कर रहे छात्रों को संचालित योजनाओं का लाभ उपलब्ध कराने के उद्देश्य आधार सीडिंग, आधार बनने की खराब प्रगति पर खंड शिक्षा अधिकारी सुल्तानगंज, किशनी, घिरोर, मैनपुरी देहात को चेतावनी जारी करने के निर्देश देते हुये कहा कि तत्काल पंजीकृत शत- प्रतिशत बच्चों का आधार सीडिंग का कार्य पूर्ण करायें ताकि उन्हें योजना का लाभ मिल सके।  उन्होंने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला समन्वयक मध्यान्ह भोजन को आदेशित करते हुए कहा कि बच्चों को निधार्रित दिवस पर निधार्रित मात्रा में दूध मुहैया कराया जाए। किसी भी विद्यालय में निधार्रित मात्रा से कम दूध दिया जाए तो जिम्मेदार के विरुद्ध प्रभावी कायर्वाही की जाए। मध्यान्ह भोजन में प्रयोग होने वाले मसाले संचालित स्वयं सहायता समूह से ही क्रय किए जाएं।  मुख्य विकास अधिकारी विनोद कुमार ने जनपद के संचालित बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालय में शासन के निर्देशानुसार आपरेशन कायाकल्प के अन्तगर्त 06 बिन्दुओं पर सन्तृप्त न होने के फलस्वरूप खंड शिक्षाधिकारियों का स्पष्टीकरण प्राप्त करने के निर्देश देते हुए कहा कि सभी विद्यालय ऑपरेशन कायाकल्प के तहत सभी बिंदुओं से संतृप्त किये जायें। विद्यालयों में बालक-बालिकाओं हेतु अलग-अलग शौचालय क्रियाशील रहें। दिव्यांग शौचालय, पीने हेतु स्वच्छ पानी, फनीर्चर आदि की व्यवस्था रहे। खंड शिक्षाधिकारी अपने-अपने अधीन विद्यालयों का नियमित रुप से निरीक्षण कर पठन- पाठन की स्थिति के साथ-साथ विद्यालय में पंजीकृत शत-प्रतिशत छात्रों की उपस्थिति सुनिश्चित करें। सभी शिक्षक अपने-अपने विद्यालय समय में बच्चों को बेसिक शिक्षा प्रदान करें। सभी विद्यालयों के रसोई घर साफ-सुथरे रहें, यदि कहीं भी विद्यालय परिसर, रसोई में गंदगी पायी गयी तो खंड शिक्षा अधिकारी के जिम्मेदारी तय होगी।   इस दौरान मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. पी.पी. सिंह, परियोजना निदेशक डी.आर.डी.ए. के.के. सिंह, डिप्टी कलेक्टर, जिला समाज कल्याण अधिकारी वीरेन्द्र कुमार मित्तल, प्राचार्य डाइट नरेन्द्र पाल सिंह, भूमि संरक्षण अधिकारी विजय पाल, जिला कायर्क्रम अधिकारी ज्योति शाक्य, जिला प्रोबेशन अधिकारी अजय पाल, समस्त खंड शिक्षाधिकारी आदि उपस्थित रहे, बैठक का संचालन जिला बेसिक शिक्षाधिकारी दीपिका गुप्ता ने किया।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!